Ukraine Russia War Live: यूक्रेन में नरसंहार की सबसे भयानक तस्वीर, लाशें दफनाने के लिए खोदा गया 45 फीट लंबा गड्ढा

By | April 4, 2022


10:55 AM, 04-Apr-2022

कीव में खोदा गया 45 फीट लंबा गड्ढा

रूसी हमले के बाद यूक्रेन की राजधानी कीव से अब तक की सबसे भयानक तस्वीर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, यहां 410 नागरिकों के शव पाए गए हैं। इन्हें दफनाने के लिए कीव की ही एक चर्च में 45 फीट लंबा गड्ढा खोदा गया है। अमेरिकी कंपनी की ओर से इसकी सैटेलाइट तस्वीरें भी जारी की गई हैं। 

10:37 AM, 04-Apr-2022

बूचा में नरसंहार से रूस का इंकार

यूक्रेन के बूचा में अब तक का सबसे बड़ा नरसंहार सामने आया है। यूक्रेन का दावा है कि रूसी सैनिकों ने यहां 300 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया। हालांकि, रूस की ओर से इसका खंडन किया गया है। 

10:02 AM, 04-Apr-2022

नागरिकों की हत्या के लिए रूस जवाबदेह- ट्रूडो

रूसी हमलों में यूक्रेन के आम नागरिकों की हत्या पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि, हम यूक्रेन में नागरिकों की हत्या की कड़ी निंदा करते हैं और रूस को इसके लिए जवाबदेह ठहराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। आगे कहा कि, हम यूक्रेन का समर्थन जारी रखेंगे।

09:02 AM, 04-Apr-2022

ग्रैमी अवार्ड के मंच पर जेलेंस्की की अपील

ग्रैमी अवार्ड सेरेमरी के मंच पर यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की का प्री रिकॉर्डेड वीडियो चलाया गया। इसमें उन्होंने दुनिया से मदद व समर्थन की अपील की। उन्होंने कहा, आप यूक्रेन की मदद कीजिए। जैसे भी आप कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि संगीत के विपरीत क्या है? बर्बाद हुए शहरों का शोर, मरे हुए लोग…इस सन्नाटे को संगीत से भर दीजिए। 

08:38 AM, 04-Apr-2022

मैरियूपोल में डेढ़ लाख लोग फंसे

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा कि, मैरियूपोल में करीब डेढ़ लाख लोग फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि, रूसी कब्बे वाले इलाकों में मानवीय सहायता पहुंचा पाना मुश्किल हो गया है। 

08:25 AM, 04-Apr-2022

Ukraine Russia War Live: यूक्रेन में नरसंहार की सबसे भयानक तस्वीर, लाशें दफनाने के लिए खोदा गया 45 फीट लंबा गड्ढा

संयुक्त राष्ट्र संघ के मुताबिक, रूसी हमलों में अब तक 1417 आम नागरिकों की मौत हो चुकी है। वहीं 2038 लोग घायल हुए हैं। इन आंकड़ों में मैरियूपोल और इरपिन शहर में हुई मौतें शामिल नहीं हैं। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि वास्तविक आंकड़ा इससे काफी ज्यादा हो सकता है। 



Source link