Karti Chidambaram: सीबीआई की छापेमारी पर बोले कार्ति चिदंबरम, मैं डरता नहीं हूं, वीजा मामले से मेरा संबंध नहीं

By | May 24, 2022


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चेन्नई
Published by: गौरव पाण्डेय
Updated Tue, 24 May 2022 10:40 PM IST

सार

कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने मंगलवार को अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया और सीबीआई छापेमारी को लेकर केंद्र पर एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया।

ख़बर सुनें

कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम ने अपने परिसरों पर सीबीआई की छापेमारियों को लेकर मंगलवार को कहा कि मुझे इस बात से डर नहीं लगता है कि केंद्र सरकार एक बार फिर एजेंसियों का इस्तेमाल मुझ पर अपमानजनक और पूरी तरह से झूठे कार्यों का आरोपी बनाने के लिए कर रही है। उन्होंने कहा कि मेरा इस वीजा घोटाला मामले से कोई भी संबंध नहीं है। मैं इन सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं।

यह मामला साल 2011 में 263 चीनी नागरिकों को वीजा जारी करने से संबंधित एक कथित घोटाला है। उस समय कार्ति के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृह मंत्री थे। इस मामले में कार्ति बुधवार को सीबीआई के सामने पेश हो सकते हैं।

कार्ति सुप्रीम कोर्ट और एक विशेष सीबीआई अदालत की अनुमति से ब्रिटेन और यूरोप की यात्रा पर गए थे। सीबीआई अदालत के आदेश के अनुसार भारत लौटने के 16 गंटे के अंदर उन्हें सीबीआई पूछताछ में शामिल होना है। कार्ति मंगलवार को अपनी विदेश यात्रा से लौटे हैं।

यह मामला कार्ति और उनके करीबी एस भास्कररमन को वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के एक शीर्ष अधिकारी द्वारा रिश्वत के रूप में दिए जाने के आरोपों से जुड़ा है। यह कंपनी पंजाब में एक बिजली संयंत्र स्थापित कर रही थी। सीबीआई के मुताबिक, बिजली परियोजना की स्थापना का काम एक चीनी कंपनी कर रही थी और यह काम समय से पीछे चल रहा था।

विस्तार

कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम ने अपने परिसरों पर सीबीआई की छापेमारियों को लेकर मंगलवार को कहा कि मुझे इस बात से डर नहीं लगता है कि केंद्र सरकार एक बार फिर एजेंसियों का इस्तेमाल मुझ पर अपमानजनक और पूरी तरह से झूठे कार्यों का आरोपी बनाने के लिए कर रही है। उन्होंने कहा कि मेरा इस वीजा घोटाला मामले से कोई भी संबंध नहीं है। मैं इन सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं।

यह मामला साल 2011 में 263 चीनी नागरिकों को वीजा जारी करने से संबंधित एक कथित घोटाला है। उस समय कार्ति के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृह मंत्री थे। इस मामले में कार्ति बुधवार को सीबीआई के सामने पेश हो सकते हैं।

कार्ति सुप्रीम कोर्ट और एक विशेष सीबीआई अदालत की अनुमति से ब्रिटेन और यूरोप की यात्रा पर गए थे। सीबीआई अदालत के आदेश के अनुसार भारत लौटने के 16 गंटे के अंदर उन्हें सीबीआई पूछताछ में शामिल होना है। कार्ति मंगलवार को अपनी विदेश यात्रा से लौटे हैं।

यह मामला कार्ति और उनके करीबी एस भास्कररमन को वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के एक शीर्ष अधिकारी द्वारा रिश्वत के रूप में दिए जाने के आरोपों से जुड़ा है। यह कंपनी पंजाब में एक बिजली संयंत्र स्थापित कर रही थी। सीबीआई के मुताबिक, बिजली परियोजना की स्थापना का काम एक चीनी कंपनी कर रही थी और यह काम समय से पीछे चल रहा था।



Source link