Kanpur Violence: बेकनगंज थाने में तीन एफआईआर दर्ज, 40 नामजद और एक हजार अज्ञात पर केस

By | June 4, 2022


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कानपुर
Published by: हिमांशु अवस्थी
Updated Sat, 04 Jun 2022 11:16 AM IST

ख़बर सुनें

भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बयान के विरोध में शुक्रवार को नई सड़क पर जुमे की नमाज के बाद भारी बवाल हो गया। विरोध में शामिल समुदाय विशेष के लोग जबरन दुकानें बंद कराते हुए दूसरे समुदाय के हाते में दाखिल हो गए। इससे भड़के दूसरे समुदाय के लोग उन्हें खदेड़ने लगे। कुछ मिनट बाद दोनों तरफ से पत्थरबाजी होने लगी।  एक पक्ष की तरफ से फायरिंग के साथ पेट्रोल बम फेंके गए। देरशाम तक गलियों में बवाल चलता रहा। बमुश्किल पुलिस हालात काबू कर सकी। बवाल में 30 से अधिक घायल हुए हैं। 18 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। 12 कंपनी पीएसी तैनात कर दी गई है।
कानपुर बवाल में पुलिस ने बेकनगंज थाने में कुल तीन एफआईआर दर्ज की गई हैं। दादा मियां चौराहे पर हुए उपद्रव में पुलिस ने खुद दो एफआईआर कराई है। वहीं, चंद्रेश्वर अहाते के निवासियों ने एक एफआईआर दर्ज कराई है। इस मामले में एमएम जौहर फैंस एसोसिएशन के हयात जफर हाशमी एहतशाम कबाड़ी, जीशान, आकिब, निजाम, अजीजपुर आमिर जावेद व इमरान काले समेत 40 नामजद व एक हजार अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। 

उपद्रवियों पर लगेगा गैंगस्टर, बुलडोजर की कार्रवाई भी 
नई सड़क पर बवाल के बाद शुक्रवार देररात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर समेत विभिन्न जिलों के जिलाधिकारी, कप्तानों और मंडलायुक्तों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की। बवाल में कानपुर पुलिस की लापरवाही पर मुख्यमंत्री ने कड़ी नाराजगी जाहिर की। मुख्यमंत्री ने सवाल किया कि जब शहर में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल जैसे वीवीआईपी का आनाजाना लगा था, तो अतिरिक्त सतर्कता क्यों नहीं बरती गई। 

सूचना के बाद भी हालात को नियंत्रण करने में हुई देरी पर पुलिस अफसरों को कड़ी फटकार लगाई। उन्होंने सभी आरोपियों को पकड़कर गैंगस्टर के तहत कार्रवाई करने और रिकवरी के लिए संपत्तियों का सर्वे कराने के निर्देश दिए। साथ ही सोशल मीडिया के जरिये अफवाह फैलाने वालों पर भी कार्रवाई के लिए कहा। मुख्यमंत्री के तल्ख लहजे से इस बात के संकेत मिले हैं कि जिले के कुछ बड़े अफसरों पर भी गाज गिर सकती है।

विस्तार

भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बयान के विरोध में शुक्रवार को नई सड़क पर जुमे की नमाज के बाद भारी बवाल हो गया। विरोध में शामिल समुदाय विशेष के लोग जबरन दुकानें बंद कराते हुए दूसरे समुदाय के हाते में दाखिल हो गए। इससे भड़के दूसरे समुदाय के लोग उन्हें खदेड़ने लगे। कुछ मिनट बाद दोनों तरफ से पत्थरबाजी होने लगी।  एक पक्ष की तरफ से फायरिंग के साथ पेट्रोल बम फेंके गए। देरशाम तक गलियों में बवाल चलता रहा। बमुश्किल पुलिस हालात काबू कर सकी। बवाल में 30 से अधिक घायल हुए हैं। 18 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। 12 कंपनी पीएसी तैनात कर दी गई है।

कानपुर बवाल में पुलिस ने बेकनगंज थाने में कुल तीन एफआईआर दर्ज की गई हैं। दादा मियां चौराहे पर हुए उपद्रव में पुलिस ने खुद दो एफआईआर कराई है। वहीं, चंद्रेश्वर अहाते के निवासियों ने एक एफआईआर दर्ज कराई है। इस मामले में एमएम जौहर फैंस एसोसिएशन के हयात जफर हाशमी एहतशाम कबाड़ी, जीशान, आकिब, निजाम, अजीजपुर आमिर जावेद व इमरान काले समेत 40 नामजद व एक हजार अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। 



Source link