Happy Navratri 2022 Live: आज से चैत्र नवरात्रि शुरू, जानें कलश स्थापना शुभ मुहूर्त, पूजाविधि,मंत्र-आरती और सबकुछ

By | April 2, 2022


07:06 AM, 02-Apr-2022

जानें नवरात्रि पूजा विधि


chaitra navratri 2022:
– फोटो : अमर उजाला

नवरात्रि के पहले दिन घर के मुख्य द्वार के दोनों तरफ स्वास्तिक बनाएं और दरवाजे पर आम के पत्ते का तोरण लगाएं। क्योंकि माता इस दिन भक्तों के घर में आती हैं। माना जाता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं और आपके घर में निवास करती हैं। नवरात्रि में माता की मूर्ति को लकड़ी की चौकी या आसन पर स्थापित करना चाहिए। जहां मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें वहां पहले स्वास्तिक का चिह्न बनाएं। उसके बाद रोली और अक्षत से टीकें और फिर वहां माता की मूर्ति को स्थापित करें। उसके बाद विधि विधान से माता की पूजा करें।

 

07:03 AM, 02-Apr-2022

नवरात्रि पर कलश स्थापना क्यों की जाती है?

नवरात्रि का त्योहार देवी दु्र्गा की पूजा,आराधना और तपस्या का त्योहार है। नवरात्रि में कलश स्थापना का विशेष महत्व होता है। नवरात्रि के पहले दिन प्रतिपदा तिथि पर कलश स्थापना करके मां शक्ति की उपासना शुरू जाती है। आखिरकार नवरात्रि पर कलश स्थापना क्यों करते हैं-

1- नवरात्रि पर कलश स्थापना करने से आसपास की सभी नकारात्मक ऊर्जाएं खत्म हो जाती हैं।

2-कलश स्थापना से घर में सुख और शांति का वास होता है।

3- कलश स्थापना से घर पर भक्ति का माहौल बन रहा है जिससे पूजा में एकाग्रता आती है।

4- कलश स्थापना से बीमारियां दूर भागती हैं।

5- घर पर पूरे नौ दिनों तक कलश स्थापना और पूजा आराधना से तरह की बाधाएं सामाप्त हो जाती हैं।

 

06:52 AM, 02-Apr-2022

नवरात्रि कलश स्थापना के लिए आज सिर्फ दो मुहूर्त

शक्ति की आराधना और उपासना का पर्व नवरात्रि आज से आरंभ हो चुका है। तिथियों में किसी भी प्रकार का कोई क्षय न होने के कारण इस बार नवरात्रि पूरे 9 दिनों तक है। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना का विशेष महत्व होता है। जिसमें शुभ मुहूर्त को ध्यान में रखते हुए कलश स्थापना करके देवी दुर्गा की विधिवत पूजा आराधना शुरू हो जाती है। आज सभी को कलश स्थापना के लिए दो मुहूर्त ही मिलेंगे। 

पहला मुहूर्त – सुबह 06 बजकर 03 मिनट से 08 बजकर 31 मिनट तक

दूसरा मुहूर्त- अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 48 मिनट से 12 बजकर 37 मिनट तक

 

06:30 AM, 02-Apr-2022

Happy Navratri 2022 Live: आज से चैत्र नवरात्रि शुरू, जानें कलश स्थापना शुभ मुहूर्त, पूजाविधि,मंत्र-आरती और सबकुछ

Chaitra Navratri 2022 Shubh Muhurat, Puja Vidhi, Samagri And Mantra: आज से चैत्र नवरात्रि शुरू हो गए हैं। आज यानी 02 अप्रैल, शनिवार हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि पर घट स्थापना के साथ आने वाले नौ दिनों तक देवी दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा-आराधना के साथ विविधत रूप से चैत्र नवरात्रि आरंभ हो रहे हैं। इस बार तिथियों के क्षय नहीं होने की वजह से चैत्र नवरात्रि पूरे 9 दिनों तक रहेंगे। 10 अप्रैल को रामनवमी का पर्व मनाया जाएगा। मान्यता है नवरात्रि पर देवी दुर्गा की साधना और पूजा-पाठ से सुख-समृद्धि का वास होता है। इसके अलावा मन की शक्ति का विकास अच्छे तरीके से होता है। हिंदू धर्म में नवरात्रि के पर्व का विशेष महत्व होता है। पूरे वर्ष में चार बार नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इनमें से चैत्र और शारदीय नवरात्रि का विशेष महत्व होता है जबकि दो गुप्त नवरात्रि होते हैं। नवरात्रि के नौ दिनों का विशेष महत्व होता है, जिसमें पूरे नौ दिनों तक उपवास रहते हुए देव दुर्गा के नौ रूपों की शक्ति की आराधना विधि विधान के साथ की जाती है। इन नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है,जो भक्तों को सुख-सौभाग्य, ऐश्वर्य और शौर्य प्रदान करती हैं। मान्यता है कि नौ देवियों की कृपा से अलग-अलग तरह के मनोरथ सिद्ध होते हैं। नवरात्रि के पहले दिन यानि प्रतिपदा तिथि पर मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप देवी शैलपुत्री को समर्पित होता है। इस दिन शुभ मुहूर्त को ध्यान में रखते हुए जौ बोने और कलश स्थापन-पूजन के साथ मां शैलपुत्री का पूजन किया जाता है।



Source link