Gujarat: जब खुद को लोहे की जंजीर से मारने लगे मंत्री, बताई यह वजह, भाजपा ने कहा- धार्मिक विश्वास का मामला

By | May 28, 2022


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अहमदाबाद
Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव
Updated Sat, 28 May 2022 08:11 AM IST

सार

अरिवंद रैयानी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह लोहे की चेन से खुद को मारते नजर आ रहे हैं। इसके बाद कांग्रेस ने उन पर हमला बोला है। 

ख़बर सुनें

गुजरात की भाजपा सरकार में मंत्री अरविंद रैयानी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह लोहे की जंजीर से खुद पर कोड़े बरसाते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद कांग्रेस ने भाजपा मंत्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है तो वहीं भाजपा ने अपने मंत्री का बचाव करते हुए कहा है कि अंधविश्वास और आस्था के बीच महीन सा अंतर है, जिसे समझने की जरूरत है। 

दरअसल, अरविंद रैयानी गुजरात सरकार में परिवहन, नागरिक उड्डयन और पर्यटन राज्य मंत्री हैं। उनका एक कथित वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसमें भाजपा मंत्री खुद को लोहे की जंजीर से मार रहे हैं। इसके बाद भाजपा नेता ने वायरल वीडियो पर सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने राजकोट में अपने पैतृक गांव में कुल देवता के मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया था। देवता की पूजा के लिए वह धार्मिक परंपराओं को पूरा कर रहे थे। वह 16 साल से इस परंपरा में भाग ले रहे हैं। 

कांग्रेस ने बोला हमला 
इस वीडियो के सामने आने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता मनीष दोषी ने कहा कि मंत्री होने के बावजूद अरविंद रैयानी अवैज्ञानिक हरकतें कर रहे हैं। वह एक पाखंडी की तरह अंधविश्वास फैला रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे लोग गुजरात सरकार में मंत्री के रूप में काम कर रहे हैं।

भाजपा ने क्या कहा?
गुजरात भाजपा ने कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि विपक्षी दल को आस्था और अंधविश्वास के बीच के अंतर को समझने की जरूरत है। यह किसी के व्यक्तिगत धार्मिक विश्वास का मामला है। आस्था और अंधविश्वास को अलग करने वाली महीन रेखा होती है। हर किसी के पूजा करने के अपने अलग तरीके होते हैं। पारंपरिक रीति-रिवाजों को अंधविश्वास नहीं कहा जाना चाहिए। कांग्रेस को धार्मिक भावनाओं को आहत करने से बचना चाहिए।

विस्तार

गुजरात की भाजपा सरकार में मंत्री अरविंद रैयानी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह लोहे की जंजीर से खुद पर कोड़े बरसाते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद कांग्रेस ने भाजपा मंत्री पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है तो वहीं भाजपा ने अपने मंत्री का बचाव करते हुए कहा है कि अंधविश्वास और आस्था के बीच महीन सा अंतर है, जिसे समझने की जरूरत है। 

दरअसल, अरविंद रैयानी गुजरात सरकार में परिवहन, नागरिक उड्डयन और पर्यटन राज्य मंत्री हैं। उनका एक कथित वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसमें भाजपा मंत्री खुद को लोहे की जंजीर से मार रहे हैं। इसके बाद भाजपा नेता ने वायरल वीडियो पर सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने राजकोट में अपने पैतृक गांव में कुल देवता के मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया था। देवता की पूजा के लिए वह धार्मिक परंपराओं को पूरा कर रहे थे। वह 16 साल से इस परंपरा में भाग ले रहे हैं। 

कांग्रेस ने बोला हमला 

इस वीडियो के सामने आने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता मनीष दोषी ने कहा कि मंत्री होने के बावजूद अरविंद रैयानी अवैज्ञानिक हरकतें कर रहे हैं। वह एक पाखंडी की तरह अंधविश्वास फैला रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे लोग गुजरात सरकार में मंत्री के रूप में काम कर रहे हैं।

भाजपा ने क्या कहा?

गुजरात भाजपा ने कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि विपक्षी दल को आस्था और अंधविश्वास के बीच के अंतर को समझने की जरूरत है। यह किसी के व्यक्तिगत धार्मिक विश्वास का मामला है। आस्था और अंधविश्वास को अलग करने वाली महीन रेखा होती है। हर किसी के पूजा करने के अपने अलग तरीके होते हैं। पारंपरिक रीति-रिवाजों को अंधविश्वास नहीं कहा जाना चाहिए। कांग्रेस को धार्मिक भावनाओं को आहत करने से बचना चाहिए।





Source link