सचिन तेंदुलकर ‘315’ रूट नंबर की बस देखकर हुए इमोशनल, बताया- कौन सी सीट पर बैठना था पसंद- Video

By | April 8, 2022


नई दिल्ली. दुनिया के महानतम बल्लेबाजों में शुमार सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने एक वीडियो शेयर किया है. वीडियो में वह मुंबई में चलने वाली ‘315’ रूट नंबर की बस का जिक्र करते नजर आ रहे हैं. सचिन ने साथ ही बताया कि किस तरह वह अपने बचपन के दिनों में शिवाजी पार्क तक इस बस में बैठकर आते थे और फिर शाम को ट्रेनिंग सेशन के बाद इसी बस से घर लौटते थे. उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से इस वीडियो को शेयर किया है.

‘गॉड ऑफ क्रिकेट’ से मशहूर सचिन ने जो अपने करियर में हासिल किया है, वह नायाब है. कई दिग्गज खिलाड़ी उन्हें अपना आदर्श मानते हैं. सिर्फ भारतीय खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि विदेशी खिलाड़ी भी इस लिस्ट में शामिल हैं. सचिन ने क्रिकेट में बहुत योगदान दिया है और देश में इसकी लोकप्रियता के पीछे वह प्रमुख कारणों में से एक हैं.

इसे भी देखें, ‘इसको फैट बोलते हैं बेटा’, जसप्रीत बुमराह ने 15 करोड़ के खिलाड़ी के फोटोशूट में यूं लिए मजे- Video

सचिन ने एक वीडियो शेयर करते हुए बताया कि कैसे वह बचपन में प्रैक्टिस के लिए मैदान तक जाने के लिए बस से सफर करते थे. वीडियो में वह एक बस के पास खड़े हैं, जिसका रूट नंबर 315 है. उन्होंने इसके पीछे की कहानी भी शेयर की. वह कहते हैं, ‘कई सालों के बाद मैंने 315 नंबर की बस देखी है. यह बांद्रा और शिवाजी पार्क के बीच चलती है. मैं इस बस से यात्रा करता था और शिवाजी पार्क पहुंचकर अभ्यास शुरू करने के लिए बहुत उत्साहित होता. जब प्रैक्टिस और काफी मैच खेलने के बाद मैं थक जाता तो उम्मीद करता कि मेरी पसंदीदा सीट मुझे मिले.’

सचिन बस में चढ़कर बताते हैं कि जो पीछे की खिड़की से बस की आखिरी सीट थी, वह उनकी पसंदीदा थी. वह कहते थे, ‘उम्मीद करता था कि वह सीट खाली रहे ताकि मैं वहां बैठ सकूं और बाहर से ठंडी हवा के साथ सवारी का आनंद ले सकूं. तब मैं सो जाता था और अपने बस स्टॉप को भी कई बार भूल जाता था लेकिन यह बहुत मजेदार था.’

रिकॉर्ड 5 बार की आईपीएल चैंपियन मुंबई इंडियंस के आइकन और मेंटॉर सचिन के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक दर्ज हैं. इसके अलावा वह टेस्ट और वनडे फॉर्मेट में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी भी हैं.

Tags: Cricket news, Former Indian Cricketer, Off The Field, Sachin tendulkar





Source link