यूक्रेन संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने पोलैंड में यूक्रेनी शरणार्थियों से की मुलाकात, पुतिन को बताया कसाई  

By | March 26, 2022


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वारसॉ
Published by: अभिषेक दीक्षित
Updated Sat, 26 Mar 2022 10:54 PM IST

सार

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि नाटो पूरी तरह से एकजुट है। हमारे दृष्टिकोण में कोई अलगाव नहीं होना चाहिए।

ख़बर सुनें

यूक्रेन में जारी रूस के हमलों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति शनिवार को पोलैंड पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बाइडन ने पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा से वारसॉ में मुलाकात की। यहां अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि नाटो पूरी तरह से एकजुट है। हमारे दृष्टिकोण में कोई अलगाव नहीं होना चाहिए। मुझे विश्वास है कि व्लादिमीर पुतिन को यकीन था कि वह नाटो को विभाजित कर देंगे और पूर्व को पश्चिम से अलग करने में सक्षम होंगे। इसके बाद बाइडन ने वारसॉ में यूक्रेनी शरणार्थियों से मुलाकात की। यहां उन्होंने पुतिन पर हमला बोला और उन्हें एक कसाई बताया।

यूरोप दौरे के अंतिम दिन बाइडन ने पोलैंड को भरोसा दिलाया कि अमेरिका रूस के किसी भी हमले से उसका बचाव करेगा। उन्होंने कहा कि आपके देश की स्वतंत्रता को लेकर हमारी प्रतिबद्धता है। समय बहुत कठिन है, मगर आज पोलैंड-अमेरिका के संबंध मजबूत हो रहे हैं। 

रूस के हमले के बाद से यूक्रेन से 37 लाख लोग पलायन कर चुके हैं और इनमें से 20 लाख लोगों ने पोलैंड में शरण ली है। इस सप्ताह की शुरुआत में अमेरिका ने घोषणा की थी कि वह यूक्रेन के एक लाख शरणार्थियों को शरण देगा। बाइडन ने डूडा से कहा कि वह समझते हैं कि पोलैंड एक बड़ी जिम्मेदारी संभाल रहा है, लेकिन यह सब नाटो की जिम्मेदारी होनी चाहिए।

वहीं, बाइडन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा कि पोलैंड की राजधानी में शनिवार को बाइडन संबोधित करेंगे। इसमें वह आगे की चुनौतियों का जिक्र करेंगे।  बाइडन यूरोप की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में पोलैंड आए हैं। वारसॉ में अपने संबोधन के बाद बाइडन अमेरिका लौट जाएंगे।

विस्तार

यूक्रेन में जारी रूस के हमलों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति शनिवार को पोलैंड पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बाइडन ने पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा से वारसॉ में मुलाकात की। यहां अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि नाटो पूरी तरह से एकजुट है। हमारे दृष्टिकोण में कोई अलगाव नहीं होना चाहिए। मुझे विश्वास है कि व्लादिमीर पुतिन को यकीन था कि वह नाटो को विभाजित कर देंगे और पूर्व को पश्चिम से अलग करने में सक्षम होंगे। इसके बाद बाइडन ने वारसॉ में यूक्रेनी शरणार्थियों से मुलाकात की। यहां उन्होंने पुतिन पर हमला बोला और उन्हें एक कसाई बताया।

यूरोप दौरे के अंतिम दिन बाइडन ने पोलैंड को भरोसा दिलाया कि अमेरिका रूस के किसी भी हमले से उसका बचाव करेगा। उन्होंने कहा कि आपके देश की स्वतंत्रता को लेकर हमारी प्रतिबद्धता है। समय बहुत कठिन है, मगर आज पोलैंड-अमेरिका के संबंध मजबूत हो रहे हैं। 

रूस के हमले के बाद से यूक्रेन से 37 लाख लोग पलायन कर चुके हैं और इनमें से 20 लाख लोगों ने पोलैंड में शरण ली है। इस सप्ताह की शुरुआत में अमेरिका ने घोषणा की थी कि वह यूक्रेन के एक लाख शरणार्थियों को शरण देगा। बाइडन ने डूडा से कहा कि वह समझते हैं कि पोलैंड एक बड़ी जिम्मेदारी संभाल रहा है, लेकिन यह सब नाटो की जिम्मेदारी होनी चाहिए।

वहीं, बाइडन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा कि पोलैंड की राजधानी में शनिवार को बाइडन संबोधित करेंगे। इसमें वह आगे की चुनौतियों का जिक्र करेंगे।  बाइडन यूरोप की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में पोलैंड आए हैं। वारसॉ में अपने संबोधन के बाद बाइडन अमेरिका लौट जाएंगे।



Source link