मोबाइल उगल रहा ‘ड्रैगन’ के राज: चीनी एप करोड़ों की ठगी मामले में तीन और गिरफ्तार, दो सीधे थे चीनी नागरिकों के संपर्क में

By | April 5, 2022


चीनी एप के जरिये लोन देकर ब्लैकमेल कर करोड़ों रुपये वसूलने के मामले में स्पेशल सेल की आईएफएसओ ने तीन और आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान उत्तम नगर, दिल्ली निवासी हरप्रीत सिंह और पंकज व जितेंद्र के रूप में हुई है।

 

हरप्रीत और पंकज को पुलिस की टीम उत्तराखंड के हरिद्वार से गिरफ्तार कर दिल्ली लाई है। दोनों लोन के मामले में रिकवरी मैनेजर का काम देख रहे थे। दोनों चीनी नागरिक अकीरा और एमी के सीधे संपर्क में थे। इनके पास से बरामद हुए मोबाइल फोन से इसके डिजीटल फुटप्रींट मिले हैं। वहीं तीसरा आरोपी जितेंद्र गैंग के एक अन्य आरोपी से सिमकार्ड लेकर उपलब्ध करवा रहा था। पुलिस को मामले में सिम उपलब्ध करवाने वाले मुख्य आरोपी की तलाश है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जैसे-जैसे मामले की जांच आगे बढ़ेगी, वैसे-वैसे और लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा।

आईएफएसओ यूनिट के पुलिस उपायुक्त केपीएस मल्होत्रा ने बताया कि चीनी लोन एप वसूली मामले में दो मार्च को एक और एफआईआर दर्ज की गई थी। इसमें पीड़िता की अश्लील फोटो बनाने का मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने पकड़े गए आरोपी दीपक कुमार और सुमित से पूछताछ की तो दोनों ने बताया कि एप से लोन लेने के बाद हरप्रीत और पंकज नामक शख्स इसकी रिकवरी के लिए कॉल करते थे। दोनों ने रिकवरी मैनेजर का काम संभाला हुआ था। 

पुलिस ने पूछताछ के बाद हरप्रीत और पंकज की लोकेशन का पता किया तो वह हरिद्वार की मिली। इंस्पेक्टर मनोज कुमार व अन्यों की टीम को तुरंत हरिद्वार भेजा गया, जहां से दोनों को दबोच लिया गया। दोनों दिल्ली के उत्तम नगर इलाके के रहने वाले थे। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने अपना अपराध कबूल कर लिया। दोनों ने बताया कि चीनी नागरिक अकीरा और एमी के इशारे पर वह लोन लेने वाले लोगों को कॉल कर धमकाते थे। इसके अलावा जिन लोगों की अश्लील तस्वीरे और वीडियो बना ली जाती थीं, उनको भी यह रुपये देने के लिए कॉल करते थे।

इनके मोबाइल कॉल रिकॉर्ड्स से पता चला है कि दोनों चीनी नागरिकों के संपर्क में थे। पुलिस दोनों को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। वहीं दीपक ने पूछताछ में यह भी बताया कि गैंग को सिमकार्ड दिल्ली के कापस हेड़ा निवासी जितेंद्र उपलब्ध करवाता है। पुलिस ने कापसहेड़ा में छापेमारी कर जितेंद्र को भी गिरफ्तार कर लिया। जितेंद्र ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसे भी कोई अन्य शख्स एक्टिवेटेट सिम देकर जाता है। अब पुलिस उसकी भी तलाश कर रही है। बता दें कि चीनी एप ‘कैश एडवांस’ के झांसे में आकर लोग लोन ले रहे थे। इस एप के जरिये लोगों की बेहद निजी जानकारियां लेकर उनको ब्लैकमेल किया जाता था। माना जा रहा है कि इन लोगों ने चंद ही दिनों में लाखों लोगों से हजारों करोड़ की ठगी कर ली। आईएफएसओ की टीम इनसे लगाकर पूछताछ मामले की जांच कर रही है।



Source link