मुलाकात : द्विपक्षीय संबंधों में मिठास घोलेंगे मोदी और देउबा, पीएम के साथ अहम द्विपक्षीय वार्ता आज

By | April 2, 2022


अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली।
Published by: योगेश साहू
Updated Sat, 02 Apr 2022 12:31 AM IST

सार

नेपाल के पीएम देउबा को भारत का दोस्त माना जाता है। ओली के हटने और देउबा के नेपाली संसद में विश्वासमत हासिल करने के तत्काल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें बधाई दी थी। इसके बाद दोनों नेताओं के बीच 19 जुलाई, 2019 को फोन पर बात भी हुई थी। नवंबर 2021 में ग्लासगो में कॉप 26 बैठक से इतर दोनों नेताओं की मुलाकात हुई थी।

ख़बर सुनें

नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा अपनी तीन दिवसीय भारत यात्रा पर शुक्रवार को भारत पहुंचे। हवाईअड्डे पर रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने उनकी अगवानी की। यात्रा के पहले दिन देउबा ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। जयशंकर के साथ बैठक में दोनों देशों ने सदियों पुराने द्विपक्षीय संबंधों में और मजबूती लाने पर बल दिया।

इस बैठक में रविवार को होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ होने वाली द्विपक्षीय वार्ता की रूपरेखा तैयार की गई। रविवार को होने वाली इस वार्ता में दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में अहम समझौते होंगे और पिछली नेपाल सरकार के समय दोनों देशों के संबंध में आई कड़वाहट में मिठास आने की उम्मीद है। इस दौरान भारत की मदद से चल रही परियोजनाओं की समीक्षा भी होगी।

अपने तीन दिवसीय भारत यात्रा के दौरान देउबा अपने पूर्ववर्ती पीएम केपी शर्मा ओली के कार्यकाल के दौरान द्विपक्षीय रिश्ते में आई कड़वाहट को दूर करेंगे। गौरतलब है कि तब ओली ने भारतीय भूभाग पर दावा करने के साथ चीन से नजदीकियां बढ़ा कर भारत को नाराज कर दिया था।

इससे पहले देउबा और उनकी पत्नी डॉक्टर आरजू देउबा के दिल्ली पहुंचने के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, एक विशेष दोस्त का हार्दिक स्वागत है। इस दौरे में देउबा रविवार को सुबह नौ बजे वाराणसी पहुंचेंगे। वहां कई मंदिरों में दर्शन करने के बाद दोपहर बाद दिल्ली लौटेंगे। दिल्ली से शाम सवा चार बजे काठमांडु के लिए रवाना हो जाएंगे।

तीन साल बाद नेपाल के पीएम का भारत दौरा
देउबा तीन साल में भारत की यात्रा करने वाले पहले नेपाली प्रधानमंत्री हैं। उनसे पहले मई 2019 में उस समय के नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली नरेंद्र मोदी के दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेते समय भारत आए थे। उससे कुछ महीने पहले पीएम मोदी बिम्सटेक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने काठमांडु गए थे। 

नड्डा से अहम मुलाकात
दिल्ली पहुंचने के बाद देउबा ने भाजपा मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। इस दौरान नड्डा ने उन्हें पार्टी के कार्यक्रमों की जानकारी दी। वार्ता में दोनों दलों के युवाओं के बीच संवाद बढ़ाने पर सहमति बनी।

भारत के दोस्त माने जाते हैं देउबा
देउबा को भारत का दोस्त माना जाता है। ओली के हटने और देउबा के नेपाली संसद में विश्वासमत हासिल करने के तत्काल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें बधाई दी थी। इसके बाद दोनों नेताओं के बीच 19 जुलाई, 2019 को फोन पर बात भी हुई थी। नवंबर 2021 में ग्लासगो में कॉप 26 बैठक से इतर दोनों नेताओं की मुलाकात हुई थी। देउबा नेपाल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता है और इस पार्टी का भारत के साथ हमेशा अच्छा संबंध रहा है। 

विस्तार

नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा अपनी तीन दिवसीय भारत यात्रा पर शुक्रवार को भारत पहुंचे। हवाईअड्डे पर रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने उनकी अगवानी की। यात्रा के पहले दिन देउबा ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। जयशंकर के साथ बैठक में दोनों देशों ने सदियों पुराने द्विपक्षीय संबंधों में और मजबूती लाने पर बल दिया।

इस बैठक में रविवार को होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ होने वाली द्विपक्षीय वार्ता की रूपरेखा तैयार की गई। रविवार को होने वाली इस वार्ता में दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में अहम समझौते होंगे और पिछली नेपाल सरकार के समय दोनों देशों के संबंध में आई कड़वाहट में मिठास आने की उम्मीद है। इस दौरान भारत की मदद से चल रही परियोजनाओं की समीक्षा भी होगी।

अपने तीन दिवसीय भारत यात्रा के दौरान देउबा अपने पूर्ववर्ती पीएम केपी शर्मा ओली के कार्यकाल के दौरान द्विपक्षीय रिश्ते में आई कड़वाहट को दूर करेंगे। गौरतलब है कि तब ओली ने भारतीय भूभाग पर दावा करने के साथ चीन से नजदीकियां बढ़ा कर भारत को नाराज कर दिया था।

इससे पहले देउबा और उनकी पत्नी डॉक्टर आरजू देउबा के दिल्ली पहुंचने के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, एक विशेष दोस्त का हार्दिक स्वागत है। इस दौरे में देउबा रविवार को सुबह नौ बजे वाराणसी पहुंचेंगे। वहां कई मंदिरों में दर्शन करने के बाद दोपहर बाद दिल्ली लौटेंगे। दिल्ली से शाम सवा चार बजे काठमांडु के लिए रवाना हो जाएंगे।



Source link