आज का शब्द: पूनम और कवि प्रदीप का गीत ‘मेरे जीवन के पथ पर छाई ये कौन पूनम की चाँदनी’

By | April 29, 2022


                
                                                             
                            हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है 'पूनम' जिसका अर्थ है 1. जिस दिन आकाश में चंद्रमा अपनी पूरी कलाओं में रहता है; पूर्णिमा 2. शुक्ल पक्ष का अंतिम दिन। कवि प्रदीप ने अपने एक गीत में इस शब्द का प्रयोग किया है। 
                                                                     
                            

मेरे जीवन के पथ पर छाई ये कौन
पूनम की चाँदनी
अरे
मधुर-मधुर मन भायी
ये कौन
मधुर-मधुर मन भायी
पूनम की चाँदनी
मेरे जीवन के पथ पर छाई ये कौन
पूनम की चाँदनी

धीमे-धीमे मेरी कुटी में
इठलाती हुई बलखाती हुई
चुपचाप कहीं से आई
ये कौन
चुपचाप कहीं से आई
पूनम की चाँदनी
मेरे जीवन के पथ पर छाई ये कौन
पूनम की चाँदनी

कौन परी ये स्वर्ग से उतरी
बड़ी लाज भरी मेरे आस-पास
खेलन लागी रस-रंग रास
पल-पल ले कर अंगड़ाई
ये कौन
पल-पल ले कर अंगड़ाई
पूनम की चाँदनी
मेरे जीवन के पथ पर छाई ये कौन
पूनम की चाँदनी
 

24 minutes ago



Source link