आज का शब्द: उदार और मैथिलीशरण गुप्त की कविता- वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे

By | April 1, 2022


                
                                                             
                            'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- उदार, जिसका अर्थ है- विशाल हृदय वाला, सहिष्णु, दानशील, रूढ़ियों में सुधार चाहने वाला। प्रस्तुत है मैथिलीशरण गुप्त की कविता-  वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे
                                                                     
                            

विचार लो कि मर्त्य हो न मृत्यु से डरो कभी,
मरो परन्तु यों मरो कि याद जो करे सभी।
हुई न यों सु–मृत्यु तो वृथा मरे, वृथा जिये,
मरा नहीं वहीं कि जो जिया न आपके लिए।
यही पशु–प्रवृत्ति है कि आप आप ही चरे,
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।।

उसी उदार की कथा सरस्वती बखानती,
उसी उदार से धरा कृतार्थ भाव मानती।
उसी उदार की सदा सजीव कीर्ति कूजती;
तथा उसी उदार को समस्त सृष्टि पूजती।
अखण्ड आत्मभाव जो असीम विश्व में भरे¸
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिये मरे।।

क्षुधार्थ रंतिदेव ने दिया करस्थ थाल भी,
तथा दधीचि ने दिया परार्थ अस्थिजाल भी।
उशीनर क्षितीश ने स्वमांस दान भी किया,
सहर्ष वीर कर्ण ने शरीर-चर्म भी दिया।
अनित्य देह के लिए अनादि जीव क्या डरे?
वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।।

आगे पढ़ें

56 minutes ago



Source link